Bank Clerk Kaise Bane? Bank Clerk ke Liye Qualification, Yogyata, Salary: बैंक क्लर्क बनने के लिए क्या करें?

वर्त्तमान समय में बैंकिंग सेक्टर की जॉब काफी लोकप्रिय हो गयी है. अधिकांश स्टूडेंट्स बैंकिंग क्षेत्र में जॉब लेना चाहते हैं. अगर आप भी बैंकिंग जॉब में रूचि रखते हैं, तो बैंक में क्लर्क या पीओ बनके, अपना करियर इस क्षेत्र में संवार सकते हैं. तो आज आप जानेंगे कि Bank Clerk Kaise Bane? बैंक क्लर्क की सैलरी कितनी होती है? Bank Clerk ke Liye Qualification, Yogyata क्या होना चाहिए.

बैंक क्लर्क क्या होता है?

बैंक क्लर्क वह पेशेवर व्यक्ति होता है, जो बैंक में ग्राहकों के द्वारा दिए गए काम को पूरा करता है. जैसे- ग्राहक की बैंक खाता एंट्री करना, नगद रूपये जमा करना, नगद रूपये निकलना, RTGS NEFT करना, चेक जमा करना आदि. बैंक क्लर्क, बैंक का कर्मचारी या लिपिक होता है. बैंक क्लर्क ग्राहकों/ खाताधारकों की समस्याओं को सुनते हैं, उनकी द्वारा दिए गए कार्यों को करते हैं.

बैंक क्लर्क बनने के लिए क्या करें?

बैंक क्लर्क बनने के लिए सबसे पहले आप किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से स्नातक डिग्री (ग्रेजुएशन) उत्तीर्ण करें. और किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से कंप्यूटर कोर्स करें. उसके बाद बैंक क्लर्क के लिए आवेदन करना होगा. समय-समय पर सरकारी व निजी बैंकों में बैंक क्लर्क की भर्ती हेतु सूचना निकलती है. जब बैंक क्लर्क का एप्लीकेशन फॉर्म निकलता है, उस समय ऑनलाइन एप्लीकेशन करना होगा. आवेदन करने के बाद लिखित परीक्षा और इंटरव्यू उत्तीर्ण करना होगा. क्योंकि बैंक क्लर्क का चयन लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के माध्यम से होता है.

Bank Clerk ke Liye Qualification

  • उम्मीदवार किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी सब्जेक्ट में स्नातक डिग्री (Graduation) उत्तीर्ण होना चाहिए.
  • ग्रेजुएशन में कम से कम 50% मार्क्स होना चाहिए.
  • उम्मीदवार कंप्यूटर कोर्स किया होना चाहिए.
  • कंप्यूटर का ज्ञान होना चाहिए.

Bank Clerk ke Liye Yogyata

  • उम्मीदवार के पास किसी भी सब्जेक्ट में ग्रेजुएशन डिग्री होनी चाहिए.
  • अभ्यर्थी की न्यूनतम उम्र 20 वर्ष तथा अधिकतम उम्र 28 वर्ष होनी चाहिए.
  • आरक्षित वर्ग (SC/ ST/ OBC/ PwD) के अभ्यर्थियों को अधिकतम उम्र-सीमा में छुट दिया जाता है.
  • एसटी/ एससी अभ्यर्थी को 5 वर्ष और ओबीसी कैंडिडेट को 3 वर्ष का छुट दिया जाता है.
  • विकलांग अभ्यर्थी (PwD) के लिए अधिकतम उम्र-सीमा में 10  वर्ष का छुट होता है.
  • अभ्यर्थी को स्थानीय भाषा और अंग्रेजी भाषा का ज्ञान होना चाहिए.
  • उम्मीदवार को कंप्यूटर का अच्छा ज्ञान होना चाहिए.
  • बैंक क्लर्क बनने के लिए कंप्यूटर नॉलेज होना अनिवार्य होता है.

Bank Clerk Kaise Bane?

  • बैंक क्लर्क बनने के लिए सबसे पहले आप किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से स्नातक डिग्री (Graduation) उत्तीर्ण करें.
  • ग्रेजुएशन पास करने के बाद बैंक क्लर्क के लिए आवेदन करें.
  • समय-समय पर बैंक क्लर्क पद की रिक्ति पदों की भर्ती हेतु notification निकलता है.
  • जब Bank Clerk भर्ती के लिए एप्लीकेशन फॉर्म निकलता है, उस समय ऑनलाइन अप्लाई करें.
  • आवेदन करने के बाद बैंक क्लर्क एग्जाम की तैयारी करें.
  • अगर आप ग्रेजुएशन के साथ बैंक क्लर्क एग्जाम की तैयारी करते हैं, तो ओर अच्छा रहेगा.
  • क्योंकि आवेदन प्रक्रिया पूरी होने के बाद बैंक क्लर्क एग्जाम होता है, जिसका आयोजन आईबीपीएस करती है, जो थोड़ी कठिन होती है.
  • IBPS बैंक क्लर्क एग्जाम तीन चरणों में आयोजित करती है, prelims एग्जाम, mains एग्जाम और interview.
  • सबसे पहले प्रारंभिक परीक्षा होता है, उसके बाद मुख्य परीक्षा या मैन्स एग्जाम होता हैं. उसके बाद इंटरव्यू होता है.
  • तीनों चरणों की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले उम्मीदवारों का मेरिट बनता है.
  • मेरिट के आधार पर बैंक क्लर्क के लिए सिलेक्शन होता है.
  • चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति बैंक क्लर्क पद में होती है.

बैंक क्लर्क का सैलरी कितना होता है?

बैंक क्लर्क की शुरूआती सैलरी 11,765 रूपये से 31,540 रूपये प्रतिमाह तक होता है. वेतन के अलावे के कई प्रकार के अन्य भत्ते मिलती है. जैसे- महंगाई भत्ते, यात्रा भत्ते, आवास भत्ते, स्पेशल भत्ते आदि. सभी भत्ते को मिलाकर शुरुआती समय में एक बैंक क्लर्क को लगभग 19-20 हजार रूपये सैलरी मिलती है. जैसे-जैसे अनुभव होता है, वैसे-वैसे वेतन में बढ़ोतरी भी होता है.

Bank Clerk Selection Process in Hindi

आईबीपीएस (IBPS) द्वारा आयोजित क्लर्क एग्जाम के माध्यम से बैंक क्लर्क का सिलेक्शन होता है. आईबीपीएस तीन चरणों में क्लर्क एग्जाम का आयोजन करती है, प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार.

प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)

यह आइबीपीएस बैंक क्लर्क की प्रथम चरण की परीक्षा होती है. इसमें तार्किक क्षमता (Reasoning), संख्यात्मक अभियोग्यता, और अंग्रेजी भाषा के प्रश्न होते हैं. प्रारंभिक परीक्षा का पेपर कुल 100 अंकों का होता है, सभी प्रश्न ऑब्जेक्टिव टाइप के होते हैं. प्रश्नों को हल करने के लिए कुल घंटे का समय निर्धारित होता है. इसमें Negative Marking का प्रावधान होता है.

मुख्य परीक्षा (Mains Exam)

मुख्य परीक्षा का पेपर चार खण्डों सामान्य वित्तीय जागरूकता, सामान्य अंग्रेजी, संख्यात्मक अभियोग्यता, तार्किक क्षमता और कंप्यूटर योग्यता में बंटा होता है. इसमें कुल 200 अंकों का वैकल्पिक प्रश्न होता है, प्रश्नों को हल करने के लिए 3 घंटे का समय निर्धारित होता है. इसमें भी नकारात्मक अंकन होता है, गलत उत्तर देने पर अंक काट लिए जाते हैं. केवल प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण में होने वाले अभ्यर्थियों के लिए मुख्य परीक्षा होता है.

साक्षात्कार (Interview)

यह अंतिम चरण की परीक्षा होती है. प्रारंभिक व मुख्य परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले अभ्यर्थियों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है. इसमें interviewer यानि इंटरव्यू लेने वाले व्यक्ति आपसे करंट अफेयर्स, राजनितिक, सामाजिक, भारतीय अर्थव्यवस्था से सम्बंधित प्रश्न पूछते हैं, जिसका उत्तर आपको अच्छे से देना होता है. सही और सटीक उत्तर देने पर आपको नंबर मिलते हैं. इंटरव्यू में इंटरव्यू लेने वाले अधिकारी आपकी ज्ञान के अलावे आपकी समझ, आत्मविश्वास व व्यवहार आदि की जाँचते हैं.

इसे भी पढ़ें- सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने?

Leave a Comment