Compounder Kaise Bane? Compounder ke Liye Qualification, Salary/ गवर्नमेंट कम्पाउण्डर कैसे बने?

जब कभी भी आप अस्पताल जाते होंगे, तब अक्सर कम्पाउण्डर को देखते होंगे. कम्पाउण्डर, जो डॉक्टर की सहायक के तौर पर कार्य करता नजर आता होगा या मरीज को दवाई या इंजेक्शन देते देखते होंगे. अस्पताल या क्लिनिक में कम्पाउण्डर को देखकर आपके मन में एक सवाल अवश्य आता होगा कि Compounder Kaise Bante Hai? Compounder ke Liye Qualification क्या होना चाहिए? तो आज आप जानेंगे Compounder Kaise Bane? कम्पाउण्डर की सैलरी कितनी होती है?

Compounder Kya Hota Hai?

कम्पाउण्डर, डॉक्टर या चिकित्सक का सहायक होता है. जो डॉक्टर की निर्देश पर रोगियों की जाँच करता है एवं डॉक्टर द्वारा लिखी गयी दवाई व इंजेक्शन रोगी को देता है. कम्पाउण्डर का मुख्य काम डॉक्टर की सहायता करना एवं रोगियों की देखभाल व दवाई देने और मिलाने में मदद करना होता है.

कम्पाउण्डर बनने के लिए क्या करें?

कम्पाउण्डर बनने के लिए सबसे पहले किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से बारहवीं कक्षा/हाई स्कूल (10+2) की परीक्षा उत्तीर्ण करें. उसके बाद किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से बैचलर डिग्री (ग्रेजुएशन) उत्तीर्ण करें. हाई स्कूल परीक्षा या बैचलर डिग्री उत्तीर्ण करने के बाद आप किसी प्राइवेट हॉस्पिटल में कम्पाउण्डर के लिए अप्लाई करके, कम्पाउण्डर का काम कर सकते हैं. क्योंकि कई प्राइवेट अस्पताल हाई स्कूल व बैचलर डिग्री उत्तीर्ण उम्मीदवारों को कम्पाउण्डर की जॉब देती है.

लेकिन अगर आप गवर्नमेंट सेक्टर में कम्पाउण्डर की जॉब पाना चाहते हैं तो आपको फार्मेसी से संबधित डीफार्मा/ बीफार्मा कोर्स करना होगा.

Compounder ke Liye Qualification

  • उम्मीदवार किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से साइंस स्ट्रीम में हाई स्कूल (12th) परीक्षा कम से कम 50% अंकों उत्तीर्ण होना चाहिए.
  • या किसी मान्यता प्राप्त संस्थान/ यूनिवर्सिटी से बैचलर डिग्री उत्तीर्ण होना चाहिए.
  • उम्मीदवार किसी मान्यता प्राप्त संस्थान/ यूनिवर्सिटी से फार्मेसी में डिप्लोमा या डिग्री (D pharma/ B pharma) कोर्स किया हो.
  • कम्पाउण्डर बनने लिए Pharmacy डिप्लोमा/ डिग्री होना अनिवार्य होता है.

Compounder Kaise Bane?

  • कम्पाउण्डर बनने के लिए सबसे पहले किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से साइंस स्ट्रीम में हाई स्कूल/ बारहवीं कक्षा (10+2) उत्तीर्ण करें.
  • या किसी मान्यता प्राप्त संस्थान/ यूनिवर्सिटी से बैचलर डिग्री (स्नातक) उत्तीर्ण करें.
  • हाई स्कूल परीक्षा या बैचलर डिग्री उत्तीर्ण करने के बाद किसी प्राइवेट हॉस्पिटल में कम्पाउण्डर के लिए अप्लाई कर सकते हैं.
  • और किसी निजी/ प्राइवेट अस्पताल में कम्पाउण्डर का काम कर सकते हैं.
  • क्योंकि कई प्राइवेट हॉस्पिटल हाई स्कूल उत्तीर्ण और बैचलर डिग्री उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को कम्पाउण्डर की जॉब देती है.
  • लेकिन अगर आप सरकारी/ गवर्नमेंट सेक्टर के अस्पतालों में कम्पाउण्डर की जॉब पाना चाहते हैं, तो डीफार्मा या बीफार्मा (Pharmacy) कोर्स करना होगा.
  • फार्मेसी कोर्स करने के बाद सरकारी कम्पाउण्डर के लिए अप्लाई कर सकते हैं.
  • समय-समय स्वास्थ्य विभाग कम्पाउण्डर की भर्ती हेतु, आवेदन सूचना जारी करती है.
  • जब compounder recruitment एप्लीकेशन फॉर्म निकलती है, उस समय आवेदन करना होगा.
  • आवेदन करने के बाद लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करना होगा.
  • क्योंकि सरकारी विभाग में कम्पाउण्डर की भर्ती लिखित परीक्षा एवं इंटरव्यू के आधार पर होती है.

Government Compounder Kaise Bane?

  • गवर्नमेंट कम्पाउण्डर/ सरकारी अस्पताल में कम्पाउण्डर बनने के लिए सबसे पहले साइंस स्ट्रीम में बारहवीं कक्षा (12th) कम से कम 50% अंकों में उत्तीर्ण करें.
  • science strim में 12वीं कक्षा पास करने के बाद किसी मान्यता प्राप्त संस्थान/ यूनिवर्सिटी से D pharma/ B Pharma कोर्स करें.
  • डीफार्मा (diploma in pharmacy) या बीफार्मा (bachelor of pharmacy) कोर्स करने के बाद कम्पाउण्डर के लिए आवेदन करें.
  • समय-समय पर स्वास्थ्य विभाग कम्पाउण्डर की भर्ती हेतु जॉब notification जारी करती है.
  • जब गवर्नमेंट Compounder Recruitment सूचना निकलती है, उस समय अप्लाई करना होगा.
  • एप्लीकेशन फॉर्म भरने/ आवेदन करने के बाद लिखित परीक्षा होता है.
  • लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद इंटरव्यू होता है.
  • केवल रिटेन टेस्ट उत्तीर्ण उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है.
  • इंटरव्यू उत्तीर्ण करने वाले अभ्यर्थियों का चयन होता है.
  • चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति राज्य/ क्षेत्र के सरकारी अस्पतालों में कम्पाउण्डर पोस्ट पर होती है.

Compounder ki Salary Kitni Hoti Hai?

गवर्नमेंट सेक्टर में कम्पाउण्डर की सैलरी 20,000 रूपये से 30,000 रूपये प्रतिमाह होता है. वेतन के अलावे महंगाई भत्ता, यात्रा भत्ता, आवास भत्ता आदि भत्ता मिलता है. सभी राज्यों में कम्पाउण्डर की सैलरी अलग-अलग होता है.

वहीं प्राइवेट सेक्टर/ निजी अस्पतालों में कम्पाउण्डर सैलरी 15,000 रूपये-20,000 रूपये प्रतिमाह तक होता है. सरकारी विभाग की अपेक्षा प्राइवेट सेक्टर में कम्पाउण्डर का सैलरी कम होता है.

इसे भी पढ़ें- Pharmacist (फार्मासिस्ट) Kaise Bane?

Leave a Comment