JPSC Syllabus in Hindi, JPSC ka Syllabus aur Exam Pattern (Civil Service Exam)

किसी भी परीक्षा की तैयारी के लिए सम्बंधित परीक्षा का पैटर्न और सिलेबस की जानकारी होनी चाहिए. अगर आप झारखण्ड लोक सेवा आयोग परीक्षा (JPSC Exam)की तैयारी करना चाहते हैं, तो सबसे पहले जेपीएससी का सिलेबस और एग्जाम पैटर्न को समझे. सिलेबस और एग्जाम पैटर्न की जानकारी से परीक्षा की तैयारी करने में आसानी होगी. तो आज हम जानेंगे JPSC ka Syllabus aur Exam Pattern के बारे में. JPSC Syllabus in Hindi

JPSC ka Syllabus aur Exam Pattern

जेपीएससी यानि झारखण्ड पब्लिक सर्विस कमीशन, सिविल सर्विस एग्जाम (JPSC CSE) तीन चरणों में आयोजित करती है. प्रारंभिक परीक्षा (Prelims Exam), मुख्य परीक्षा (Mains Exam) और साक्षात्कार (Interview). सबसे पहले 400 अंकों का प्रारंभिक परीक्षा होता है, उसके बाद 1050 अंकों का मुख्य परीक्षा का पेपर होता है. और अंतिम में 100 का इंटरव्यू होगा.

प्रारंभिक परीक्षा (Prelims Exam)

  • इसमें दो पेपर होता है, सामान्य अध्ययन विषय (Social Studies) का (GS-I और GS- II पेपर)
  • प्रत्येक पेपर कुल 200 अंकों का होता है.
  • प्रारंभिक परीक्षा कुल 400 अंकों का होता है.
  • प्रत्येक पेपर को हल करने के लिए 2 घंटे का समय निर्धारित होता है.
  • दोनों पेपर में सभी प्रश्न वस्तुनिष्ठ (Objective type Question) होते हैं.

मुख्य परीक्षा (Mains Exam)

  • मुख्य परीक्षा कुल 1050 अंकों का होता है.
  • इसमें 6 पेपर होता है, 2 पेपर भाषा (Language) का और बाकी के 4 पेपर विषय आधारित होता है.
  • प्रत्येक पेपर को हल करने के लिए 3 घंटे का समय निर्धारित होता है.
  • Paper I- Language (हिंदी और अंग्रेजी) कुल 100 अंकों का होता है.
  • Paper I-(भाषा और साहित्य) कुल 150 अंकों होता है.
  • पेपर III- सामाजिक विज्ञान 200 अंकों का होता है.
  • Paper IV- भारतीय संविधान 200 अंकों का होता
  • पेपर V- भारतीय अर्थव्यवस्था कुल 200 अंकों का होता है.
  • पेपर VI- सामान्य विज्ञान 200 अंकों का होता है.

साक्षत्कार (Interview)

इंटरव्यू जेपीएससी सिविल सर्विस एग्जाम का अंतिम चरण का परीक्षा होता है. इंटरव्यू कुल 100 अंकों का होता है. केवल मुख्य परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों के लिए साक्षात्कार होता है.

JPSC Syllabus in Hindi

प्रारंभिक परीक्षा (Prelims)

  1. पेपर I-सामान्य अध्ययन (General Studies- paper I)- भारत का इतिहास, भारत का भूगोल, भारतीय राजनीति और शासन, सामान्य विज्ञान)
  2. पेपर II- सामान्य अध्ययन (General Studies-paper II)- झारखण्ड विशेष- झारखण्ड का इतिहास, झारखण्ड के आन्दोलन, झारखण्ड की साहित्य, नृत्य, संगीत, आदि)

मुख्य परीक्षा (Mains Exam)

  • Paper I- सामान्य हिंदी और अंग्रेजी (Qualifying paper) – व्याकरण, निबंध, कॉम्प्रिहेंशन, लेखन
  • पेपर II- भाषा और साहित्य (हिंदी भाषा और साहित्य/ संस्कृत भाषा और साहित्य/ संथाली भाषा और साहित्य, आदि) विभिन्न भाषाओँ में एक भाषा का चयन करना होगा.
  • पेपर III- सामाजिक विज्ञान (भूगोल, इतिहास)
  • पेपर- IV- भारतीय संविधान (राजनीति, लोक प्रशासन और सुशासन)
  • पेपर V- भारतीय अर्थव्यवस्था (वैश्वीकरण और सतत विकास)
  • पेपर VI- सामान्य विज्ञान (पर्यावरण और प्रौद्योगिकी विकास)

JPSC Prelims Exam (प्रारंभिक परीक्षा) ka Syllabus

पेपर I- सामान्य अध्ययन (GS-Paper I)

  • भारत का इतिहास (प्राचीन भारत का इतिहास, मध्यकालीन भारत और आधुनिक भारत का इतिहास)
  • भारत का भूगोल (सामान्य भूगोल, भौतिकी भूगोल, आर्थिक भूगोल, सामाजिक और जनसांख्यिकीय भूगोल)
  • भारतीय राजनीति और शासन (भारत का संविधान, लोक प्रशासन और सुशासन, विकेंद्रीकरण, पंचायतें और नगरपालिकाएं)
  • सामान्य विज्ञान (प्रौद्योगिकी, कृषि और आईटी)
  • राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व की समसामयिक घटनाएँ
  • आर्थिक और सतत् विकास बुनियादी विशेषताएँ
  • झारखंड विशिष्ट प्रश्न (झारखण्ड का इतिहास, झारखण्ड की संस्कृति समाज, विरासत)

पेपर II- सामान्य अध्ययन ( GS-Paper II)- झारखण्ड विशिष्ट 

  • झारखंड का इतिहास
  • झारखंड के प्रमुख आंदोलन
  • झारखंड की विशिष्ट पहचान
  • झारखंड के लोग और साहित्य, नृत्य; संगीत, पर्यटन स्थल और आदिवासी संस्कृति
  • झारखंड का साहित्य और साहित्य से जुड़े व्यक्तित्त्व
  • झारखंड के प्रमुख शिक्षण संस्थान
  • झारखंड के खेल
  • झारखंड के उद्योग और संसाधन
  • झारखंड में भूमि संबंधी कानून/अधिनियम
  • झारखंड में आपदा प्रबंधन

JPSC Mains Exam (मुख्य परीक्षा) ka Syllabus

पेपर I- सामान्य हिंदी और सामान्य अंग्रेजी

  • व्याकरण (Grammar)
  • निबंध (Essay)
  • बोधगम्यता (Comprehension)
  • संक्षिप्त लेखन (Precis Writing)

पेपर II- भाषा और साहित्य (इनमें से किसी एक भाषा का चयन करना होगा)

  • उड़िया भाषा और साहित्य/ बंगाली भाषा और साहित्य/ उर्दू भाषा और साहित्य/ संस्कृत भाषा और साहित्य/ अंग्रेजी भाषा और साहित्य/
  • हिंदी भाषा और साहित्य/ संथाली भाषा और साहित्य/ पंचपरगनिया भाषा और साहित्य/ नागपुरी भाषा और साहित्य/ मुंडारी भाषा और साहित्य
  • /कुडुक भाषा और साहित्य/ कुडमाली भाषा और साहित्य/ खोरठा भाषा और साहित्य/ खड़िया भाषा और साहित्य/ हो भाषा और साहित्य

पेपर (Paper) III- सामाजिक विज्ञान

इतिहास

  • प्राचीन काल का इतिहास
  • मध्य काल का इतिहास,
  • आधुनिक काल का इतिहास
  • झारखण्ड का इतिहास

भूगोल 

  • भौतिक भूगोल (सामान्य सिद्धांत)
  • भारत का भौतिक और मानव भूगोल
  • भारत के प्राकृतिक संसाधन, इनके विकास और उपयोग
  • झारखंड का भूगोल और उसके संसाधनों का उपयोग
  • जनसंख्या
  • औद्योगिक और शहरी विकास
  • शहरी बंदोबस्त का प्रारूप और प्रदूषण समस्या

पेपर IV- भारतीय संविधान और राजनीति, लोक प्रशासन और सुशासन

भारतीय संविधान और राजनीति
  • संविधान की प्रस्तावना, भारतीय संविधान की मुख्य विशेषताएँ, मौलिक अधिकार और कर्तव्य, राज्य के नीति निर्देशक सिद्धांत
  • केंद्र सरकार (कार्यकारी और विधायिका)
  • न्यायतंत्र
  • राज्य सरकार (कार्यकारी, विधायिका, न्यायपालिका, पंचायत और नगरपालिका)
  • केंद्र-राज्य संबंध
  • अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति क्षेत्रों के प्रशासन से संबंधित विशेष प्रावधान
  • संविधान के आपातकालीन प्रावधान
  • भारत का चुनाव आयोग
  • राजनीतिक दल और दबाव समूह
लोक प्रशासन और सुशासन
  • लोक प्रशासन का अर्थ, कार्यक्षेत्र और महत्त्व
  • सार्वजनिक और निजी प्रशासन
  • केंद्रीय प्रशासन- केंद्रीय सचिवालय, कैबिनेट सचिवालय, प्रधानमंत्री कार्यालय, योजना आयोग, वित्त आयोग)
  • राज्य प्रशासन- राज्य सचिवालय, मुख्य सचिव, मुख्यमंत्री कार्यालय)
  • ज़िला प्रशासन- ज़िला मजिस्ट्रेट और कलेक्टर के कार्यालय की उत्पत्ति और विकास, ज़िला कलेक्टर की बदलती भूमिका, ज़िला प्रशासन पर न्यायपालिका के अलग होने का प्रभाव)
  • नौकरशाही के गुण और अवगुण, नीति निर्माण और इसके कार्यान्वयन में नौकरशाही की भूमिका
  • प्राधिकरण का प्रत्यायोजन, केंद्रीकरण और विकेंद्रीकरण
  • नौकरशाही और राजनीतिक कार्यपालिका के बीच गठजोड़, सामान्यवादी बनाम विशेषज्ञ
  • कार्मिक प्रशासन- सिविल सेवाओं की भर्ती, संघ लोक सेवा आयोग और राज्य लोक सेवा आयोग, सिविल सेवकों का प्रशिक्षण, नेतृत्व और उसके गुण, कर्मचारियों का मनोबल और उत्पादकता
  • आपदा प्रबंधन- आपदाओं का वर्गीकरण, कारण और शमन, तत्काल और दीर्घकालिक उपाय
  • सुशासन – लोकपाल, लोकायुक्त, केंद्रीय सतर्कता आयुक्त, शिकायत निवारण, सेवा का अधिकार अधिनियम,
  • सूचना का अधिकार अधिनियम, शिक्षा का अधिकार अधिनियम, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, महिलाओं के खिलाफ घरेलू हिंसा (रोकथाम) अधिनियम
  • मानवाधिकार अवधारणा का अर्थ, मानवाधिकारों की सार्वभौमिक घोषणा, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग, राज्य मानवाधिकार आयोग, आतंकवाद, सामाजिक मुद्दे

पेपर V- भारतीय अर्थव्यवस्था (वैश्वीकरण, सतत विकास)

  • राष्ट्रीय आय- राष्ट्रीय आय की प्राथमिक अवधारणाएँ और इसकी गणना के तरीके
  • जीडीपी, जीएनपी, एनडीपी, एनएनपी, जीएसडीपी, एनएसडीपी, डीडीपी स्थिर और वर्तमान कीमतों पर
  • मुद्रास्फीति– अवधारणा, मुद्रास्फीति पर नियंत्रण, मौद्रिक, राजकोषीय और प्रत्यक्ष उपाय
  • जनसांख्यिकीय विशेषताएँ
  • कृषि और ग्रामीण अर्थव्यवस्था- हरित क्रांति,श्वेत क्रांति, इंद्रधनुष क्रांति, विश्व व्यापार संगठन
  • औद्योगिक अर्थव्यवस्था- नीतिगत पहल और परिवर्तन
  • सार्वजनिक वित्त- सार्वजनिक वित्त का दायरा, सार्वजनिक वित्त के सिद्धांत
  • राजकोषीय नीति- केंद्र और राज्य के वित्तीय संबंध, वित्त आयोग की भूमिका
  • बजट
  • सरकारी व्यय
  • भारतीय मौद्रिक और बैंकिंग प्रणाली की संरचना
  • भारतीय व्यापार, भुगतान संतुलन
वैश्वीकरण 
  • वित्तीय और बैंकिंग क्षेत्र में सुधार, आर्थिक सुधार, नाबार्ड, आरआरबी
  • भारतीय अर्थव्यवस्था का वैश्वीकरण
  • कृषि क्षेत्र का विकास, सब्सिडी के मुद्दे और कृषि में सार्वजनिक निवेश
  • भारत में औद्योगिक विकास और आर्थिक सुधार
  • भारत के औद्योगीकरण में सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों की भूमिका, सार्वजनिक उद्यमों का विनिवेश और निजीकरण
  • आर्थिक विकास का अर्थ और माप- अविकसितता की विशेषताएँ, विकास के संकेत, एचडीआई, जीडीआई, भारत की एचडीआई प्रगति
  • अर्थव्यवस्था के विकास में विदेशी पूंजी और प्रौद्योगिकी की भूमिका
सतत विकास 
  • सतत् विकास की अवधारणा और संकेतक, आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय स्थिरता, जीडीपी की अवधारणा
  • विकास की स्थिति और सामाजिक और आर्थिक रूप से हाशिए के वर्गों से संबंधित मुद्दे
  • गरीबी और बेरोजगारी- बीपीएल परिवारों की पहचान, बहुआयामी गरीबी सूचकांक
  • खाद्य और पोषण सुरक्षा- भारत में खाद्य उत्पादन और खपत में रुझान, खाद्य सुरक्षा की समस्या, भंडारण, खरीद, वितरण, आयात और निर्यात की समस्याएं और मुद्दे
  • सरकारी नीतियाँ, योजनाएँ और कार्यक्रम, सार्वजनिक वितरण प्रणाली, मध्याह्न भोजन योजनाएँ, खाद्य और पोषण सुरक्षा के लिए सरकारी नीतियाँ
  • आर्थिक सुधार की प्रकृति, भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रभाव
  • झारखंड की अर्थव्यवस्था– आर्थिक विकास और संरचना, क्षेत्रीय संरचना
  • झारखंड में कृषि और औद्योगिक विकास
  • झारखंड की जनसांख्यिकीय विशेषताएँ- जनसंख्या वृद्धि, लिंग अनुपात, घनत्व, साक्षरता,
  • झारखंड में गरीबी, बेरोजगारी, खाद्य सुरक्षा, कुपोषण, शिक्षा और स्वास्थ्य संकेतकों की स्थिति,
  • कृषि और ग्रामीण विकास के मुद्दे, प्रमुख कार्यक्रम और योजनाएँ, गरीबी उन्मूलन कार्यक्रम, खाद्य सुरक्षा योजनाएँ
  • झारखंड में भूमि, जंगल और पर्यावरण के मुद्दे

पेपर VI- सामान्य विज्ञान (पर्यावरण और प्रौद्यगिकी)

पर्यावरण विज्ञान
  • वैश्विक पर्यावरणीय मुद्दों, वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण से निपटने हेतु पर्यावरण उपायों के संरक्षण के लिये भारत सरकार द्वारा किये गये उपाय
  • पर्यावरण कानूनों की समझ
  • जैव-विविधता हॉटस्पॉट और जैव-विविधता हॉटस्पॉट के खतरों पर उम्मीदवारों का ज्ञान
कृषि विज्ञान
  • झारखंड की कृषि, जलवायु परिस्थितियां, वर्षा पैटर्न और प्रत्येक क्षेत्र में अजैविक तनावों की समझ
  • झारखंड की खाद्य और बागवानी फसलों का ज्ञान, जलवायु परिवर्तन, कृषि उत्पादन के सुधार में वर्षा जल संचयन की भूमिका और मछली पालन
  • मिट्टी की उर्वरता, मिट्टी के स्वास्थ्य में सुधार के लिये किये गये उपायों, जैविक खेती, कृषि वानिकी, बंजर भूमि
  • राज्य के किसानों की मदद करने के लिए, सरकारी योजनाओं के बारे में जानकारी
विज्ञान और तकनीक:
  • परमाणु प्रौद्योगिकी से संबंधित भारत सरकार की नीतियाँ
  • ऊर्जा के विभिन्न नवीकरणीय और गैर-नवीकरणीय स्रोतों के माध्यम से देश की ऊर्जा मांगों को पूरा करने के लिये सरकार द्वारा बनाई गई योजनाएँ
  • भारतीय मिसाइल कार्यक्रम, अंतरिक्ष कार्यक्रम की समझ
  • साइबर अपराधों के कारण सामने आने वाली सूचना प्रौद्योगिकी चुनौतियां
भौतिक विज्ञान
  • एमकेएस, सीजीएस, एसआई जैसी इकाइयों की प्रणाली पर बुनियादी ज्ञान
  • गति, वेग, गुरुत्वाकर्षण, द्रव्यमान, भार, बल, प्रभाव, कार्य, शक्ति और ऊर्जा पर विषय
  • सौर मंडल से संबंधित विषय
  • ध्वनि, तरंगदैर्ध्य आवृत्ति, इन्फ्रासोनिक और अल्ट्रासोनिक ध्वनि विशेषताओं और अनुप्रयोगों से संबंधित अवधारणाएँ
जीवन विज्ञान
  • कोशिका की संरचना और इसके कार्यों, जीवों की विविधता, बायोमोलेक्यूल्स सेल प्रजनन पर अवधारणाएँ
  • मानव विकास सहित पृथ्वी पर जीवन के विकास के सिद्धांत

इसे भी पढ़ें- DSSSB PRT Syllabus in Hindi 

Leave a Comment