MP Patwari Kaise Bane? MP Patwari ke Liye Qualification, योग्यता, Salary (Selection Process)

मध्यप्रदेश सरकार, राजस्व विभाग के अंतर्गत पटवारी या लेखपाल की नियुक्ति करती है. पटवारी ग्राम स्तर का राजस्व अधिकारी होता है. जो ग्रामीण क्षेत्र की भूमि का रिकॉर्ड रखता है. अब आपके मन में सवाल होगा कि मध्यप्रदेश में पटवारी कैसे बने? तो आज आप जानेंगे  MP Patwari Kaise Bane? MP Patwari ke Liye Qualification in Hindi के बारे में.

पटवारी क्या होता है?

पटवारी (Patwari) राजस्व विभाग का सरकारी अधिकारी होता है. जिसे लेखपाल के नाम से भी जाना जाता है. इनका काम ग्रामीण क्षेत्रों में भूमि मापन, भूमि की खरीदी-बिक्री आदि से सम्बंधित रिकॉर्ड रखना होता है. इसके अलावा आय प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, स्थानीय प्रमाण पत्र बनवाने से सम्बंधित कार्य होता है.

एक पटवारी या लेखपाल के अंतर्गत कई गाँव होते हैं, इन सभी गांवों की भूमि का रिकॉर्ड रखना होता है. अपनी नियुक्ति क्षेत्र की सभी गाँवों की भूमि का मापन, खरीद-बिक्री आदि का रिकॉर्ड रखता है. जैसे किस व्यक्ति के पास कितनी जमीन है, किसने कितनी जमीन बेचीं व खरीदी आदि का रिकॉर्ड रखना.

MP me Patwari Banne ke Liye Kya Kare?

मध्यप्रदेश (MP) में पटवारी बनने के लिए सबसे पहले किसी मान्यता प्राप्त संस्थान/ विश्वविद्यालय से किसी भी सब्जेक्ट में स्नातक (Graduation) उत्तीर्ण करें. और कंप्यूटर कोर्स करें. उसके बाद जब मध्यप्रदेश सरकार पटवारी की भर्ती हेतु notification जारी करती है, उस समय पटवारी के लिए आवेदन करें. आवेदन करने के बाद लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करना होगा. क्योंकि केवल लिखित परीक्षा पास करने वाले अभ्यर्थियों को ही डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए बुलया जाता है. डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के बाद पटवारी की नियुक्ति होती है.

MP Patwari ke Liye Qualification

  • उम्मीदवार किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय/संस्थान से किसी भी सब्जेक्ट में स्नातक (Graduation) उत्तीर्ण होना चाहिए.
  • और किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से Computer Proficiency Certificate Test (CPCT) उत्तीर्ण होना चाहिए.
  • MP पटवारी बनने के लिए ग्रेजुएशन और CPCT यानि हिंदी टाइपिंग सहित कंप्यूटर दक्षता उत्तीर्ण होना अनिवार्य है.

MP Patwari के लिए योग्यता

  • आवेदक मध्यप्रदेश राज्य का निवासी हो.
  • उम्मीदवार की न्यूनतम उम्र 18 वर्ष तथा अधिकतम उम्र 40 वर्ष होना चाहिए.
  • उम्मीदवार किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से स्नातक उत्तीर्ण होना चाहिए.
  • और हिंदी टाइपिंग सहित कंप्यूटर दक्षता (CPCT) में उत्तीर्ण होना चाहिए.
  • आवेदक को कंप्यूटर का बेसिक ज्ञान व हिंदी टाइपिंग आनी चाहिए.
  • उम्मीदवार के पास CPCT (Computer Proficiency Certificate Test) स्कोर कार्ड होना अनिवार्य होता है.

MP Patwari Kaise Bane?

  • MP (मध्यप्रदेश) पटवारी बनने के लिए सबसे पहले किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक (Graduation) उत्तीर्ण करें.
  • और किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से CPCT (Computer Proficiency Certificate Test) उत्तीर्ण करें.
  • हिंदी टाइपिंग सहित कंप्यूटर दक्षता उत्तीर्ण करने के बाद पटवारी के लिए आवेदन करें.
  • समय-समय पर मध्यप्रदेश सरकार पटवारी की रिक्ति पदों की भर्ती हेतु सूचना जारी करती है.
  • जब MP Patwari Recruitment सूचना निकलती है, उस समय अप्लाई करें.
  • आवेदन करने के बाद लिखित परीक्षा होती है.
  • लिखित परीक्षा (Written Test) उत्तीर्ण करने के बाद Document verification होता है.
  • केवल लिखित परीक्षा पास करने वाले अभ्यर्थियों को डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए बुलाया जाता है.
  • दस्तावेज सत्यापन के बाद पटवारी के लिए सिलेक्शन होता है.
  • चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति पटवारी पोस्ट पर होती है.

MP Patwari ki Salary Kitni Hoti Hai?

मध्यप्रदेश (MP) Patwari की सैलरी 5200 से 20200 रूपये प्रतिमाह होती है. इसके अलावे ग्रेड पे पर 2100 रूपये प्रतिमाह मिलता है. वेतन के अलावे महंगाई भत्ते और रिटायरमेंट होने पर पेंशन भी मिलती है.

MP Patwari ka Selection Kaise Hota Hai?

लिखित परीक्षा और दस्तावेज सत्यापन (डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन) के द्वारा मध्यप्रदेश पटवारी का सिलेक्शन होता होता है. सबसे पहले100  अंकों की लिखित परीक्षा होती है. जिसमें ऑब्जेक्टिव टाइप का प्रश्न होता है. Written Test का परिणाम घोषित होने के बाद डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन होता है. केवल लिखित परीक्षा उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए बुलाया है.

Written Test ( लिखित परीक्षा)

लिखित परीक्षा कुल 100 अंकों की होती है. जिसमें हिंदी, अंग्रेजी, गणित, पंचायती राज्य और कंप्यूटर विषय का प्रश्न होता है. सभी सब्जेक्ट से 20-20 प्रश्न होता है, कुल मिलाकर 100 प्रश्न होता है. प्रत्येक प्रश्न के लिए 1 अंक निर्धारित होता है. सभी प्रश्न objective type के होते है.

Document Verification (दस्तावेज सत्यापन)

लिखित परीक्षा के बाद दस्तावेज सत्यापन होता है. जिसमें उम्मीदवार की शैक्षणिक प्रमाण-पत्रों (10th, 12th और Graduation) की जाँच होती है. इसके अलावे जाति प्रमाण-पत्र, आय प्रमाण-पत्र, निवास प्रमाण-पत्र आदि दस्तावेजों की जाँच होती है.

पटवारी का काम क्या होता है?

  • पटवारी का मुख्य काम अपने नियुक्ति क्षेत्र की भूमि का रिकॉर्ड रखना होता है.
  • भूमि की माप, खरीद-बिक्री आदि से सम्बंधित रिकॉर्ड रखना.
  • राजस्व अभिलेखों का हिसाब रखता है.
  • गाँव में बेची गई जमीन और खरीदी गई जमीन का रिकॉर्ड रखना.
  • आपदा के दौरान,आपदा प्रबंधन अभियान में सहयोग देना.
  • वृद्धा पेंशन, विकलांग पेंशन, विधवा पेंशन एवं जाति प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र बनवाने में आवेदकों की सहायता करना.

इसे भी पढ़ें:- ग्राम सचिव कैसे बने? 

Leave a Comment