Career Educational

Physiotherapy ke Liye Qualification: Physiotherapy Course Kaise Kare? फ़िज़ियोथेरेपिस्ट कैसे बने?

Physiotherapy Course Kaise Kare
Written by Naukriejob.com

फ़िज़ियोथेरेपी मेडिकल क्षेत्र का एक ब्रांच है. फिजियोथेरेपिस्ट शारीरिक दर्द, चोट और शारीरिक विकार सम्बंधित रोगियों का उपचार करता है. यह मुख्य रूप से शरीर के बाहरी भागों का इलाज करता है. जैसे शरीर में लगी चोट, हड्डियों की चोट और दर्द का इलाज करता है. यह जानने के बाद आपपके मन सवाल होगा कि फ़िज़ियोथेरेपिस्ट कैसे बने? तो आज हम आपसे इसी के बारे में बात करेंगे कि Physiotherapy Course Kaise Kare? फिजियोथेरेपी के लिए क्वालिफिकेशन क्या होना होना चाहिए.

वर्त्तमान समय में फ़िज़ियोथेरेपिस्ट की बहुत मांग है, क्योंकि हर कोई बिना दवाई लिए बीमारी से छुटकारा पाना चाहते हैं. अगर आप कम पढ़े-लिखे हैं और चिकित्सा के क्षेत्र में करियर बनाना चाहते हैं, तो फिजियोथेरेपी कोर्स करके फ़िज़ियोथेरेपिस्ट बनकर लोगों की सेवा कर सकते हैं.

Physiotherapy Kya Hai? 

फिजियोथेरेपी मेडिकल क्षेत्र का एक कोर्स है. फिजियोथेरेपी का मतलब व्यायाम के द्वारा शरीर के बाहरी हिस्सों का इलाज करना होता है. इसे हिंदी में भौतिक चिकित्सक कहते हैं. फिजियोथेरेपी में सर्टिफिकेट, डिप्लोमा, डिग्री और मास्टर डिग्री का कोर्स होता है. इस कोर्स में दाखिला बारहवीं और ग्रेजुएशन के बाद मिलता है. डिप्लोमा और डिग्री कोर्सेज में बारहवीं के बाद एडमिशन ले सकते हैं.

इस कोर्स को करने वाले अभ्यर्थी ही फ़िज़ियोथेरेपिस्ट कहलाते हैं. जो व्यायाम के द्वारा शरीर के बाहरी हिस्सों का इलाज करते हैं. फिजियोथेरेपी में शारीरिक चोट, हड्डियों और शरीर के दर्द  का इलाज एक्सरसाइज और पैन रिलीफ मूवमेंट के द्वारा किया जाता है. किसी भी प्रकार के Genetic Defect, किसी दुर्घटना या किसी प्रकार की बीमारी से पीड़ित रोगी का इलाज करने में फ़िज़ियोथेरेपिस्ट डॉक्टर की मदद करते हैं. जोड़ों के दर्द, मांसपेशियों के अकडन जैसी बीमारी का इलाज भी फ़िज़ियोथेरेपी के द्वारा किया जाता है.

Physiotherapy ke Liye Qualification 

  • उम्मीदवार किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से दसवीं कक्षा अंकों में उत्तीर्ण हो.
  • और किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से साइंस स्ट्रीम में 12th उत्तीर्ण होना चाहिए.
  • बारहवीं साइंस में भौतिकी, जीवविज्ञान और रसायन विज्ञान (PCB) विषय होना चाहिए.

Physiotherapy Course Kaise Kare? 

  • फिजियोथेरेपी कोर्स करने के लिए सबसे पहले आपको साइंस स्ट्रीम में बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण करना होगा.
  • उसके बाद किसी मान्यता प्राप्त निजी या सरकारी संस्थान/कॉलेज में फिजियोथेरेपी कोर्स में एडमिशन लेने लिए अप्लाई करना होगा.
  • फिजियोथेरेपी कोर्स में एडमिशन के लिए प्रवेश-परीक्षा उत्तीर्ण करना होगा.
  • कुछ कॉलेज बिना एंट्रेंस एग्जाम के मेरिट के आधार पर भी दाखिला लेती है.
  • डिप्लोमा कोर्स दो वर्ष का होता है और डिग्री कोर्स की अवधि कुल 4 वर्ष होता है.
  • पाठ्यक्रम के अंतिम वर्ष में छह महीने का इंटर्नशिप होता है.
  • इंटर्नशिप पूरा होने के बाद फिजियोथेरेपी कोर्स का डिग्री मिलता है.

फिजियोथेरेपी का कोर्स 

  • डिप्लोमा ऑफ़ फिजियोथेरेपी कोर्स (DPT)
  • बैचलर ऑफ़ फिजियोथेरेपी कोर्स (BPT)
  • मास्टर ऑफ़ फिजियोथेरेपी कोर्स ( MPT)

Physiotherapy Course ki Fees Kitni Hai? 

फिजियोथेरेपी कोर्स की फीस 1 लाख रूपये से 5 लाख रूपये तक होता है. विभिन्न क्षेत्रों के विभिन्न कॉलेजों में फिजियोथेरेपी कोर्स का फीस भिन्न-भिन्न होता होता है. सरकारी कॉलेज की अपेक्षा निजी कॉलेज में फीस अधिक होता है.

Physiotherapist Kaise Bane?

  • फ़िज़ियोथेरेपिस्ट बनने के लिए सबसे पहले आपको साइंस स्ट्रीम में बारहवीं कक्षा पास करना होगा.
  • उसके बाद किसी मान्यता प्राप्त संस्थान या कॉलेज में फ़िज़ियोथेरेपी कोर्स में नामांकन लेना होगा.
  • आप अपनी रूचि के अनुसार फिजियोथेरेपी डिप्लोमा या डिग्री कोर्स (DPT/ BPT) में एडमिशन ले सकते हैं.
  • 2 या 4 वर्ष का फिजियोथेरेपी कोर्स करना होगा.
  • बीपीटी या डीपीटी कोर्स की पढाई पूरी करने के बाद फ़िज़ियोथेरेपिस्ट बनते हैं.
  • डिग्री प्राप्त करने के बाद किसी निजी अस्पताल में फ़िज़ियोथेरेपिस्ट बन सकते हैं या सरकारी अस्पताल में सरकारी फिजियोथेरेपी बन सकते हैं.
  • या अनुभव होने के बाद आप अपना खुद का फिजियोथेरेपी क्लिनिक खोल सकते हैं.

फ़िज़ियोथेरेपिस्ट की सैलरी कितनी होती है?

फ़िज़ियोथेरेपिस्ट की सैलरी 15,000 से 20,000 रूपये प्रतिमाह होता है. विभिन्न अस्पतालों में फ़िज़ियोथेरेपिस्ट की सैलरी भिन्न-भिन्न होती है. कुछ वर्षों का अनुभव होने के बाद खुद का फिजियोथेरेपी क्लिनिक खोलकर इससे अधिक कमा सकते हैं.

Best Physiotherapy College in India

  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एंड एजुकेशन रिसर्च, पटना
  • अपोलो फिजियोथेरेपी कॉलेज, हैदराबाद
  • गोवा मेडिकल कॉलेज, पणजी
  • पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, चंड़ीगढ़
  • किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ
  • लोकमान्य तिलक मेडिकल कॉलेज, मुंबई
  • उत्तर प्रदेश यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल साइंस
  • जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी, दिल्ली
  • शारदा यूनिवर्सिटी, दिल्ली
  • डिपार्टमेंट ऑफ फिजिकल मेडिसन एंड रिहैबिलिटेशन, तमिलनाडु
  • एसडीएम कॉलेज ऑफ फिजियोथेरपी, कर्नाटक
  • के.जे सौम्या कॉलेज ऑफ फिजियोथेरिपी, मुंबई
  • निजाम इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस, तेलंगाना
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी, बनारस
  • मद्रास मेडिकल कॉलेज, चेन्नई
  • मेडिकल कॉलेज ऑफ कोलकाता

इसे भी पढ़ें: MBBS ke Liye Qualification: Doctor Kaise Bane?

About the author

Naukriejob.com

Leave a Comment