Junior Engineer Kaise Bane? JE ke Liye Qualification, Eligibility, Salary, Selection Process

अक्सर न्यूज़ पेपर, दैनिक समाचार पत्र और वेब पोर्टल पर JE/ जूनियर इंजीनियर वैकेंसी सूचना आता है. कई विभाग या कम्पनियां जूनियर इंजीनियर या जेई की भर्ती के लिए जॉब नोटीफिकेशन दैनिक समाचार पत्र पर जारी करती है. तो आज आप जानेंगे कि Junior Engineer/ JE Kaise Bane?  जूनियर इंजीनियर की सैलरी कितनी होती है? JE/Junior Engineer ke Liye Qualification, Eligibility

JE Kya Hota Hai?

JE का मतलब जूनियर इंजीनियर (Junior Engineer) होता है. जेई का पद ग्रुप ‘सी’ के अंतर्गत आता है, जो एक सरकारी पद होता है, रेलवे, बिजली विभाग, पीडब्लूडी जैसी लगभग सभी सरकारी विभागों में जूनियर इंजीनियर या जेई का पोस्ट होता है. सरकारी विभाग के अलावे बीएसएनएल, ओएनजीसी, टाटा स्टील कंपनी, BHEL, IOCL जैसी गैर-सरकारी विभाग या कम्पनी में भी जेई का पोस्ट होता है.

JE ke Liye Qualification

  • उम्मीदवार किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से दसवीं कक्षा (10th) उत्तीर्ण हो.
  • या किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण हो.
  • और उम्मीदवार किसी मान्यता प्राप्त संस्थान/ कॉलेज से डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग कोर्स ( Diploma in Civil Engineering/ mechanical Engineering/ electrical engineering/ electronic engineering) किया होना चाहिए.
  • या इंजीनियरिंग के किसी ब्रांच में डिग्री कोर्स (BE/B.Tech) किया होना चाहिए.

JE/ जूनियर इंजीनियर के लिए योग्यता

  • उम्मीदवार किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से Diploma in Engineering कोर्स किया हो.
  • या किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से इंजीनियरिंग में डिग्री कोर्स (बीई/ बीटेक) किया हो.
  • उम्मीदवार की न्यूनतम उम्र 18 वर्ष तथा अधिकतम उम्र 32 वर्ष होनी चाहिए.
  • अधिकतम उम्र-सीमा में आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को छुट दिया जाता है.

JE (Junior Engineer) Kaise Bane?

  • जूनियर इंजीनियर बनने के लिए सबसे पहले किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से दसवीं कक्षा उत्तीर्ण करें.
  • उसके बाद पॉलिटेक्निक से डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग ( Diploma in Civil Engineering/ mechanical Engineering/ Electrical Engineering/ Electronic Engineering) कोर्स करें.
  • या किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से साइंस स्ट्रीम में पीसीएम सब्जेक्ट के साथ बारहवीं कक्षा (10+2) उत्तीर्ण करें.
  • उसके बाद किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से इंजीनियरिंग डिग्री कोर्स (BE/ B.Tech) करें.
  • डिप्लोमा/डिग्री इंजीनियरिंग कोर्स करने के बाद जूनियर इंजीनियर के लिए अप्लाई करें.
  • स्टाफ सिलेक्शन कमीशन (SSC) जूनियर इंजीनियर की भर्ती हेतु समय-समय पर notification जारी करती है.
  • जब SSC Junior Engineer/ JE Recruitment सूचना निकलती है, उस समय अप्लाई करें.
  • अप्लाई करने के बाद लिखित परीक्षा की तैयारी करें, क्योंकि Written test के माध्यम से जेई का सिलेक्शन होता है.
  • लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन होता है. उसके बाद मेरिट बनता है.
  • मेरिट के आधार पर जेई का सिलेक्शन होता है.
  • चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति राज्य के सरकारी विभागों में जूनियर इंजीनियर पोस्ट पर होती है.

जूनियर इंजीनियर कैसे बनते हैं?

  • इसके अलावे विभिन्न प्राइवेट कम्पनियाँ या गैर-सरकारी विभाग भी जूनियर इंजीनियर की रिक्ति पदों की भर्ती हेतु समय-समय पर सूचना जारी करती है.
  • जैसे- बीएसएनएल/ ओएनजीसी/ IOCL/ BHEL/ टाटा स्टील कंपनी आदि.
  • ये कम्पनियाँ अपनी स्तर पर लिखित परीक्षा और इंटरव्यू, डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के द्वारा जूनियर इंजीनियर की भर्ती करती है.
  • बीएसएनएल/ ओएनजीसी/ आईओसीएल/ टाटा स्टील/ बीएचईएल आदि कंपनी जब जेई की भर्ती के लिए सूचना जारी करती है.
  • उस समय अप्लाई करके, इन कंपनियों में जूनियर इंजीनियर जॉब प्राप्त कर सकते हैं.

Junior Engineer ki Salary Kitni Hoti Hai?

सरकारी जूनियर इंजीनियरिंग की सैलरी 29300- 34800 रूपये प्रतिमाह होता है. वेतन के अलावे महंगाई भत्ता, यात्रा भत्ता, आवास भत्ता आदि भत्ते दी जाती है. प्राइवेट सेक्टर में जूनियर इंजीनियर की सैलरी सरकारी विभागों की अपेक्षा कम होती है.

Junior Engineer Selection Process in Hindi

जूनियर इंजीनियर या जेई का सिलेक्शन लिखित परीक्षा (Written Test) और डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के द्वारा होता है. लिखित परीक्षा दो पेपर में होता है, paper-I & paper-II.

paper -I (CBT)

टियर- I कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट (CBT) होता है, जो ऑब्जेक्टिव टाइप पेपर होता है. इसमें जनरल इंटेलिजेंस एंड रीजनिंग, जनरल अवेयरनेस और जनरल इंजीनियरिंग से 200 वस्तुनिष्ठ प्रश्न (Objective Question) होता है. प्रत्येक प्रश्न के लिए 1 अंक निर्धारित होता है. परीक्षा का समय 2  घंटा निर्धारित होता है. इसमें Negative Marking का प्रावधान होता है.

paper-II (offline)

पेपर-II की परीक्षा ऑफलाइन पेन-पेपर आधारित होती है. ऑफलाइन written test कुल 300 अंकों की होती है. परीक्षा का समय 2 घंटा निर्धारित होता है. इसमें प्रश्न तीन खंड या स्ट्रीम में होता है. किसी एक खंड/ स्ट्रीम के प्रश्नों को हल करना होता है. जैसे- General Engineering (Civil & Structural) or General Engineering (Electrical) or General Engineering (Mechanical). आप जिस ब्रांच के इंजीनियर पोस्ट के लिए अप्लाई किये हैं, उससे संबधित खंड का प्रश्न हल करें. इसमें नेगेटिव मार्किंग का प्रावधान नहीं होता है.

इसे भी पढ़ें- Government (सरकारी) Engineer Kaise Bane?

Leave a Comment